Wednesday, 21 August 2013

एक लफ्ज़ से परिचय हमेशा आधा -अधुरा ही रहा,
और अब तो कोई कैफियत ही नहीं,
अक्सर बगल में आ बैठता है,
कभी हैरानी हुआ करती थी ,
अब वो
अपनी पहचान देने में
और मैं खुद में
मशगूल रहती हूँ !!!!!!!!!!

2 comments:

  1. one more line about shabd would be good.

    ReplyDelete
  2. Us shabd ko samajhne wala hi samjhega !!

    ReplyDelete